Breaking News

आवश्यकता है “बेखौफ खबर” हिन्दी वेब न्यूज़ चैनल को रिपोटर्स और विज्ञापन प्रतिनिधियों की इच्छुक व्यक्ति जुड़ने के लिए सम्पर्क करे –Email : [email protected] , [email protected] whatsapp : 9451304748 * निःशुल्क ज्वाइनिंग शुरू * १- आपको मिलेगा खबरों को तुरंत लाइव करने के लिए user id /password * २- आपकी बेस्ट रिपोर्ट पर मिलेगी प्रोत्साहन धनराशि * ३- आपकी रिपोर्ट पर दर्शक हिट्स के अनुसार भी मिलेगी प्रोत्साहन धनराशि * ४- आपकी रिपोर्ट पर होगा आपका फोटो और नाम *५- विज्ञापन पर मिलेगा 50 प्रतिशत प्रोत्साहन धनराशि *जल्द ही आपकी टेलीविजन स्क्रीन पर होंगी हमारी टीम की “स्पेशल रिपोर्ट”

Saturday, July 13, 2024 5:24:33 PM

वीडियो देखें

65 राजस्व लेखपाल के स्थान पर, 28 राजस्व लेखपालों के भरोसे तहसील पयागपुर की व्यवस्था

65 राजस्व लेखपाल के स्थान पर, 28 राजस्व लेखपालों के भरोसे तहसील पयागपुर की व्यवस्था

रिपोर्ट : रियाज अहमद

 

पयागपुर बहराइच। 169 ग्राम पंचायत का बोझ लिए बैठा तहसील पयागपुर जहां 65 राजस्व लेखपाल के जगह 28 राजस्व लेखपालों के बलबूते पर आम जनता का चल रहा कार्य। जिससे आम जनता को समस्या के निदान के लिए अनेक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है,

स्टाफ कम होने के कारण लोगों को एक मामूली कार्य के लिए कई दिनों तक तहसील मुख्यालय का सफर तय,करना पड़ रहा है।

यही नहीं तीन रजिस्टर कानूनगो के स्थान पर मात्र एक रजिस्टर कानून को मिला हुआ है। प्रभारी

अयोध्या प्रसाद राव निवासी खुनौरा दाखिला कोडरीताल ने अपने 234 गाथा संख्या की पैमाइश के लिए जिलाधिकारी बहराइच को प्रार्थना पत्र दिया था जिस पर जिलाधिकारी बहराइच की तरफ से पयागपुर राजस्व विभाग को टीम गठित कर पैमाइश का निर्देश दिया गया परंतु आज तक राजस्व विभाग मौके तक नहीं गया, जिससे पीड़ित बराबर तहसील मुख्यालय का चक्कर लगा रहा, इसी प्रकार ग्राम पंचायत,कलुई मैं गाटा संख्या 145 नवीन परती तथा 252 तालाब की भूमि पर दबंगों का कब्जा बरकरार है जिसमें माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद लखनऊ की तरफ से स्थगन आदेश भी है फिर भी राजस्व विभाग अतिक्रमणकारियो के विरुद्ध कार्रवाई नहीं कर रहा याचिका करता विजय कुमार ने क्षेत्रीय लेखपाल पर मिली भगत करने व उच्च न्यायालय के आदेश का अवहेलना किए जाने का आरोप लगाया है, नंगू निवासी मगरेपुरवा दाखिला पयागपुर ने बताया कि लगातार 2 वर्षों से चक मार्ग पैमाइश के लिए बराबर प्रार्थना पत्र देता चला, आ, रहा हूं। कागजों पर सारी कार्रवाई कर इति श्री कर लिया जाता, एक कहावत चरितार्थ होता है कि सैया भये कोतवाल अब डर काहेका, स्टाफ कम होने का हवाला दिखाकर शिकायतकर्ता महीनो चक्कर लगाने को मजबूर हो रहे हैं।

इस बाबत में जब उप जिलाधिकारी पयागपुर दिनेश कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि स्टाफ भले कम है फिर भी किसी के कार्य में विलंब नहीं होगा,

व्हाट्सएप पर शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *